28 जनवरी से गुप्त नवरात्र आरंभ, अगले 9 दिनों में कभी भी करें ये उपाय तो पूर्ण होगी हर मनोकामना

28 जनवरी से गुप्त नवरात्र आरंभ, अगले 9 दिनों में कभी भी करें ये उपाय तो पूर्ण होगी हर मनोकामना

tarot-gyan
28 जनवरी से गुप्त नवरात्र आरंभ हो गए है। इन गुप्त नवरात्रों के दौरान मां भगवती के विभिन्न स्वरूपों की आराधना की जाती है और उन्हें प्रसन्न कर मनचाहा आशीर्वाद लिया जाता है। शास्त्रानुसार गुप्त नवरात्रों में किए गए तंत्र-मंत्र के टोटके अचूक माने जाते हैं तथा इन्हें करना भी बेहद ही आसान होता है। इन उपायों से आप असंभव को भी संभव कर सकते हैं। आइए जानते हैं ऐसे ही कुछ उपाय –

अखंड धन प्राप्ति के लिए

गुप्त नवरात्र के दौरान सुबह स्नान-ध्यान आदि से निवृत्त होकर एक पीले आसन पर उत्तर दिशा की ओर मुंह कर बैठ जाएं। अपने सामने तेल के 9 दीपक जलाएं तथा दीपक के सामने लाल रंग में रंगे चावलों की एक ढेरी बनाकर उस पर श्रीयंत्र रखें। इस श्रीयंत्र का कुंकुम, फूल, धूप, दीपक आदि से पूजन करें। अब एक प्लेट पर स्वास्तिक बनाकर उसका पूजन करें। अनुष्ठान के बाद श्रीयंत्र को अपने पूजास्थल में स्थापित कर बाकी शेष समग्री को नदी में प्रवाहित कर दें। इससे तुरंत ही धनलाभ के योग बनते हैं और बहुत जल्दी प्रचुर मात्रा में धनलाभ भी होता है।

जॉब तथा इंटरव्यू में सफलता हेतु

गुप्त नवरात्र में सुबह जल्दी उठ कर स्नान आदि कर सफेद रंग के सूती आसन पर पूर्व दिशा की ओर मुंह करके बैठ जाएं। अपने सामने पीला कपड़ा बिछाकर उस पर 108 दानों वाली स्फटिक की माला रख कर उस पर केसर व इत्र छिड़कें तथा धूप, दीप व अगरबत्ती दिखाकर “ऊँ ह्लीं वाग्वादिनी भगवती मम कार्य सिद्धि कुरु कुरु फट् स्वाहा” मंत्र का 31 बार जप करें। ऐसा लगातार 11 दिन तक करने से वह माला सिद्ध हो जाएगी। जब भी इंटरव्यू में जाएं, इस माला को पहन कर जाने से इंटरव्यू में अवश्य ही सफलता मिलेगी।

अखंड सौभाग्य तथा धनप्राप्ति हेतु

गुप्त नवरात्र में किसी शुभ मुहूर्त में सुबह स्नान-ध्यान आदि से निवृत्त होकर एक साफ कपड़े पर मोती शंख को रखें तथा उस पर केसर के स्वास्तिक बनाएं। स्वास्तिक बनाने के बाद स्फटिक की माला से “श्रीं ह्रीं श्रीं महालक्ष्मयै नम:” का एक माला (108 बार) जप करें। हर मंत्र के साथ एक चावल इस शंख पर डालते जाएं। इस प्रकार 108 मंत्र जाप के दौरान कुल 108 चावल के दाने शंख पर डालने हैं। इस प्रयोग को लगातार नौ दिनों तक करें। पूजा के बाद इन चावलों को एक सफेद रंग के कपड़े की थैली में रखें। रोज इसी तरह 9 दिनों तक करें। 9 दिनों के बाद शंख को भी उसी थैली में रखकर थैली को अपनी तिजोरी या लॉकर में रख दें। इस उपाय से घर में पैसा आने लगता है।

शीघ्र विवाह हेतु

गुप्त नवरात्रि में अपने पूजास्थल में शिव-पार्वती का एक चित्र रखें। चित्र को विधिवत पूजा-अर्चना कर निम्न मंत्र का 3, 5 या 10 माला जप करें। जप के बाद भगवान शिव-पार्वती से विवाह में आ रही बाधाओं को दूर करने की प्रार्थना करें। मंत्र इस प्रकार है-
ऊँ शं शंकराय सकल-जन्मार्जित-पाप-विध्वंसनाय,
पुरुषार्थ-चतुष्टय-लाभाय च पतिं मे देहि कुरु कुरु स्वाहा

दैवीय कृपा प्राप्त करने हेतु तथा समस्त मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए

(1) गन्ने के रस से मां भगवती को अभिषेक करवाने से भक्तों को दैवीय कृपा प्राप्त होती है।
(2) मां भगवती को आम के रस के स्नान करवाने पर उस घर में मां लक्ष्मी और सरस्वतीजी का स्थाई वास हो जाता है। उस घर में रहने वाले बुद्धिमान तथा धनवान बनते हैं।
(3) गुप्त नवरात्र के दौरान वेद पाठ के साथ कर्पूर, अगर, केसर, कस्तूरी तथा कमल के जल से देवी को स्नान करवाने पर सभी तरह के पापों से मुक्ति मिलती है। इस उपाय को करने के बाद सारे काम अपने आप हो जाते हैं।

एक चुटकी नमक से आप भी बन सकते हैं करोड़पति, जाने कैसे

ज्योतिष के अनुसार नमक में एक विशेष आकर्षण शक्ति होती है। इसी विशेषता के दम पर नमक न केवल वशीकरण के काम आता है वरन कुछ खास तंत्र प्रयोग करने वालों को करोड़पति भी बना देता है। इसका इस्तेमाल घर से नकारात्मक ऊर्जा को दूर भगाने में भी होता है। आइए जानते हैं नमक के कुछ ऐसे ही टोटके
(1) डली वाला काला नमक लाल रंग के कपड़े में बांधकर घर के मुख्य द्वार पर लटकाने से घर में किसी प्रकार की बुरी शक्ति यथा भूत, प्रेत आदि नकारात्मक शक्तियां प्रवेश नहीं कर पाती। डली वाला काला नमक अपनी दुकान के मेन गेट तथा तिजोरी के ऊपर लटकाने से व्यापार में दिन दूनी रात चौगुनी तरक्की होने लगती है।
(2) अगर घर में किसी सदस्य या बच्चे को नजर लग गई है तो एक चुटकी नमक लेकर तीन बार उसके ऊपर से घुमाकर बाहर फेंक दें। इससे तुरंत ही नजर दूर हो जाती है।
(3) वास्तु विज्ञान के अनुसार शीशा तथा नमक दोनों ही राहू की कारक वस्तु है। अतः एक शीशे के प्याले में नमक भरकर शौचालय और स्नान घर में रखना चाहिए इससे वास्तुदोष दूर होता है। इससे नकारात्मक ऊर्जा तो दूर होगी ही साथ में सूक्ष्म कीट-काटाणुओं का भी नाश होता है।
(4) घर के किसी कोने में एक शीशे के बर्तन में नमक भरकर घर के किसी कोने में रखने से घर में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है। अगर किन्हीं कारणों से मन में बुरे विचार या डर पैदा हो रहा है तो उसका भी निवारण हो जाता है।
(5) हफ्ते में एक दिन पानी में चुटकी भर नमक मिलाकर बच्चों को नहलाने से उन्हें नजर नहीं लगती और बच्चों को एलर्जी संबंधी बीमारियां भी नहीं होंगी।
(6) रात को सोते समय पानी में एक चुटकी नमक मिलाकर हाथ पैर धोने से शरीर तथा मन का तनाव दूर होता है और नींद अच्छी आती है। घर में सकारात्मक ऊर्जा की वृद्धि के लिए रॉक साल्ट लैंप रख सकते हैं।

कामदेव के इस वशीकरण मंत्र से किसी भी लड़की से मनवा सकते हैं अपनी बात

प्राचीन भारतीय शास्त्रों में कामदेव का उल्लेख प्रेम के देवता के रूप में किया गया है। जीवन में काम को पर्याप्त महत्व देते हुए कुछ मंत्र कामदेव के निमित्त भी बताए गए हैं। इन मंत्रों के प्रयोग से किसी को भी आकर्षित किया जा सकता है और उसका प्रेम प्राप्त किया जा सकता है। कामदेव के मंत्रों का जाप करने से भौतिक सुख, समृद्धि भी प्राप्त होती है।

कामदेव गायत्री मंत्र

सभी मंत्रों में कामदेव गायत्री मंत्र का विशेष स्थान है। यह व्यक्ति को देवता समान सुंदर बना कर उसे सौभाग्य देता है। कामदेव गायत्री मंत्र के जप करने वाले पूरे विश्व को सम्मोहित कर उससे मनचाहा काम करवा लेने की क्षमता रखते हैं। यह मंत्र निम्न प्रकार है-
‘ऊँ कामदेवाय विद्महे, रति प्रियायै धीमहि, तन्नो अनंग प्रचोदयात‍्।’
अन्य मंत्रों की तुलना में इस मंत्र में विशेष मेहनत करनी होती है। सवा लाख जप पूरा करने से इस मंत्र की सिद्धी होती है। इसके बाद व्यक्ति कल्पना मात्र से ही जिसे भी चाहे, उसे वश में कर सकता है। मंत्र के प्रभाव से वह जहां भी जाता है, वहीं लोग उसका सामीप्य और कृपा पाने के लिए आतुर रहते हैं।

कामदेव शाबर मंत्र

कामदेव गायत्री मंत्र के ही समान कामदेव शाबर मंत्र भी है। इस मंत्र को सिद्ध करने के लिए किसी विशेष विधि-विधान की आवश्यकता नहीं होती। किसी अनुभवी गुरु के मार्गनिर्देशन में केवल मात्र जप करने से ही यह सिद्ध हो जाता है। मंत्र निम्न प्रकार है-
‘ऊँ नमो भगवते कामदेवाय यस्य यस्य दृश्यो भवामि यस्य यस्य मम मुखं पश्यति तं तं मोहयतु स्वाहा।’
इस मंत्र के प्रयोग से व्यक्ति किसी भी स्त्री अथवा पुरुष को वश में कर सकता है। मंत्र के प्रभाव से उसकी सुंदरता, यौन क्षमता तथा बुद्धिमानी भी आश्चर्यजनक रूप से बढ़ जाती है। उसका सभी जगह सम्मान होने लगता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Download e-Book
error: Content is protected !!