न चढ़ाएं शिवलिंग पर ये चीजें, वरना नहीं मिलेगा पूजा का फल – महाशिवरात्रि 2017

न चढ़ाएं शिवलिंग पर ये चीजें, वरना नहीं मिलेगा पूजा का फल – महाशिवरात्रि 2017

शिवरात्रि 2017

शिवजी की विशेष पूजा का महामुहूर्त महाशिवरात्रि 2017, 24 फरवरी को है। इस दिन शिव पूजा करने से अक्षय पुण्य के साथ ही सभी दुख-दर्दों से मुक्ति मिलती है। शिवजी की पूजा करते समय कुछ खास नियमों का ध्यान रखना चाहिए। पूजन सामग्री की कुछ ऐसी चीजें हैं जो शिवलिंग पर चढ़ानी नहीं चाहिए। यहां जानिए ये चीजें कौन-कौन सी हैं।

शास्त्रों के अनुसार शिवलिग़ पुरुष तत्व का प्रतिक है, और हल्दी स्त्रियोचित वस्तु है। स्त्रियोचित यानि स्त्रियों से सम्बंधित। इसी वजह से शिवलिग़ पर हल्दी नहीं चढ़ाई जाती है।

जलधारी पर चढ़ाए हल्दी

हल्दी शिवलिग़ पर नहीं, बल्कि जलधारी पर चढ़ाई जा कस्ती है। शिवलिग़ शिवजी का प्रतीक है और दूसरा भाग जलधारी माता पार्वती का प्रतीक है। जलधारी माँ पार्वती का प्रतीक है, अतः इस पर हल्दी चढ़ाई जानी चाहिए।

शिवलिंग पर तुलसी न चढ़ाए

शिवपुराण के अनुसार शिवजी ने तुलसी के पति राक्षस शंखचूड़ का वध किया था।  शंखचूड़ की पत्नी होने की वजह से तुलसी शिवलिंग पर नहीं चढ़ाई जाती है।

केतकी के फूल न चढ़ाएं

प्राचीन कल में ‍‍ब्रह्मा और विष्णु ने शिवलिंग का छोर खोजने की कोशिश की थी। जिसमे ‍‍ब्रह्मा ने झूठ बोला था की उन्होंने शिवलिंग का एक छोर ढूंढ लिया है। इस झूठ में केतकी के पौधे ने भी ‍‍ब्रह्माजी का साथ दिया था। शिवजी इससे क्रोधित हो गए थे। केतकी के झूठ के कारण शिवलिंग पर इसे नहीं चढ़ाया जाता है।

जल

मंत्रो का उच्चारण करते हुए शिवलिंग पर जल चढ़ाने से हमारा स्वभाव शांत होता है। आचरण स्नेहमय होता है।

दूध

शिवलिंग पर दूध अर्पित करने से उत्तम स्वास्थ्य मिलता है। शक्ति मिलती है।

शहद

शहद चढ़ाने से हमारी वाणी में मिठास आती है।

दही

दही चढ़ाने से हमारा स्वभाव गंभीर होता है। कार्यो में सफलता और सुख मिलता है।

घी

शिवलिंग पर घी अर्पित करने से शारीरिक कमजोरी दूर होती है। ताकत बढ़ती है।

इत्र

शिवलिंग को इत्र से स्नान करवाने से हमारे बुरे विचार नष्ट होते है। शांति मिलती है और विचार पवित्र होते हैं।

चंदन

शिवजी को चंदन चढ़ाने से हमारा व्यक्तित्व आकर्षक होता है। सम्मान प्राप्त होता है।

केशर

शिवलिंग पर केशर मिला हुआ जल चढ़ाने से हमें सौम्यता प्राप्त होती है।

भांग

भांग चढ़ाने से हमारे विकार और बुऱाया दूर होती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Download e-Book
error: Content is protected !!