राशि के अनुसार जानिए क्या है आपकी सबसे बड़ी बुराई

राशि के अनुसार जानिए क्या है आपकी सबसे बड़ी बुराई

शास्त्रों में प्रसिद्ध ज्योतिष शास्त्र के अंतर्गत बारह राशियों का वर्णन किया गया है जिनके आधार पर व्यक्ति के चरित्र की व्याख्या की जाती है। दुनिया भर में करोड़ों-अरबों लोग हैं लेकिन सभी के स्वभाव को केवल इन 12 राशियों में बांटा गया है।

राशियों और इंसान का चरित्र

यह बात सुनने में कितनी अजीब लगती है कि इतने सारे लोगों का स्वभाव क्या एक जैसा ही होता है। लेकिन विभिन्न शोध भी यह साबित करते हैं कि एक जैसे राशियों के इंसानों के चरित्र की कुछ ना कुछ बातें एक समान जरूर होती हैं। सभी नहीं तो कुछ ऐसे गुण या अवगुण होंगे जो एक समान होते हैं

आज हम आपके सामने इन 12 राशियों के गुणों की बजाय कुछ अवगुणों को रखेंगे, ताकि इन्हें जानने के बाद आप अपने भीतर पल रही उस बुराई को खत्म कर सकें। यह बुराई उतनी भी बड़ी नहीं कि खत्म ना हो सके, लेकिन इतनी भी छोटी नहीं कि आपका कुछ बिगाड़ ना सके।

1. मेष राशि

मेष राशि

 

पहले नंबर पर है मेष राशि के जातक, यदि आपका जन्म 21 मार्च से 19 अप्रैल के भीतर हुआ है तो आप इसी राशि चिन्ह से संबंध रखते हैं। मेष राशि के जातक काफी कठोर दिल के माने गए हैं . लेकिन दुख की बात तो यह है कि इन्हें अपनी इस कठोरता का अंदाज़ा ही नहीं होता, तब तक नहीं जब तक ये अपनी बात को ऊपर रखते हुए सामने वाले पर सवार ना हो जाएं। दिल और दिमाग से तो आप कभी किसी के साथ बुरा व्यवहार नहीं करना चाहते, लेकिन फिर भी अपने आक्रामक स्वभाव को आप छिपाकर भी नहीं रख पाते। कोशिश करें कि ऐसा ना हो |


2. वृषभ राशि

वृषभ राशि

 

20 अप्रैल से 20 मई के भीतर जन्म लेने वाले लोग वृषभ राशि के जातक कहलाते हैं, जिनके भीतर छिपी की बुराई करें तो यह बहुत ज़िद्दी होते हैं, घमंडी होते हैं और कई बार तो लालची भी बन जाते हैं। इसका कारण है खुद से जरूरत से अधिक प्यार करना, जो आपके लिए तो बेशक अच्छा है लेकिन आपके आसपास वालो को बुरा लगता है।


3. मिथुन राशि

मिथुन राशि

21 मई से 20 जून के भीतर जन्म लेने वाले लोग मिथुन राशि के जातक हैं और इनके बारे में लोगों को सबसे बुरी बात लगती है इनका जरूरत से अधिक बोलने का रवैया। जिसके कारण लोग इनसे दूर रहना चाहते हैं, इन्हें नजरअंदाज करना चाहते हैं और इनकी बातों से कई बार चिड़ भी जाते हैं। मिथुन राशि के जातक अधिक तो बोलते ही हैं, लेकिन इनके अधिक बोलने के साथ-साथ बिना मतलब कुछ भी बोलने का अंदाज लोगों को अधिक परेशान करता है। किसी विषय के बारे में कुछ सुना नहीं कि ढोल-नगाड़ा लेकर सबको बताते हैं, लेकिन उस बात की असलियत क्या है इस गहराई तक कभी नहीं जाते मिथुन राशि के जातक और यही बात उन्हें उनके अपनों से कई बार दूर कर देती है।


4. कर्क राशि

कर्क राशि

कर्क राशि के लोगों को काफी इमोशनल माना जाता है, 21 जून से 22 जुलाई के भीतर जन्म लेने वाले लोग कर्क राशि के होते हैं। यूं तो ये शांत ही रहते हैं, अपनी जिंदगी में जीते हैं और दूसरों को तंग करना इन्हें बिल्कुल भी नहीं पसंद लेकिन कुछ बातें हैं जिसकी वजह से लोग इन्हें फटाक से अपनी जिंदगी से बाहर करने के लिए विवश हो जाते हैं। कर्क राशि के जातक होते तो अपने वर्तमान में हैं लेकिन जीते अतीत में हैं। नहीं… हम यहां किसी की लव लाइफ की बात नहीं कर रहे, हम यह कहना चाहते हैं कि बात कोई भी हो कर्क राशि के जातक उस विषय से संबंधित पुरानी बातों को पकड़कर बैठना पसंद करते हैं। दूसरी सबसे बुरी बात इनके मूड का कभी कुछ पता नहीं होता, कभी अच्छा तो कभी बेहद बोरिंग जो इनके लिए तो नहीं परंतु इनसे जुड़े लोगों के लिए परेशानी का सबब बन जाता है।


5. सिंह राशि

सिंह राशि

23 जुलाई से 22 अगस्त के भीतर जन्म लेने वाले लोग सिंह राशि के जातक होते हैं और इनकी सबसे बड़ी बुराई इनका घमंड है। अपने राशि चिन्ह की तरह ही जंगल में राजा बने शेर की तरह यह हमेशा तन के रहते हैं, लेकिन हर इंसान में एक शेर जैसा जज़्बा और रौबीला अंदाज़ हो यह जरूरी तो नहीं। सिंह राशि के जातक खुद को भगवान का तोहफा मानते हैं, लेकिन सच्चाई इससे काफी परे है। गुस्सा, घमंड और दूसरों पर दबाव डालना तो इन्हें काफी आता है लेकिन इन्हीं के पीछे इनकी कुछ कमियों को छिपाते हैं ये। माफ कीजिए, लेकिन सिंह राशि के जातकों में आमतौर पर हीनभावना देखी गई है, जो इनसे जुड़े लोगों को इनसे दूर कर देती है।


6. कन्या राशि

कन्या राशि

सिंह राशि की तरह ही कन्या राशि के जातकों में भी हीनभावना पाई गई है, लेकिन यह उनके लिए बुरी साबित हो जाती है। 23 अगस्त से 22 सितंबर के बीच जन्म लेने वाले लोग कन्या राशि के हैं, और बुराई के मामले में शायद हम इन्हें बदकिस्मत ही कह सकते हैं। क्योंकि व्यक्ति अपनी बुराई का इस्तेमाल करके अपने स्वार्थ को पूरा करता है, लेकिन कन्या राशि के जातक इसमें ही असमर्थ हो जाते हैं।


7. तुला राशि

तुला राशि

 

आप लाइफ को कितना ही बैलेंस बनाकर चल लें, लेकिन फिर भी आप कुछ ऐसी गलतियां कर देते हैं जो आपको बुरा बना देती हैं। यदि आपका जन्म 23 सितंबर से 22 अक्टूबर के भीतर हुआ है तो आप तुला राशि के जातक हैं। तुला राशि के संदर्भ में हम ऐसी बुराई बताने जा रहे हैं जो दरअसल बुराई है नहीं, बन जाती है। तुला राशि के जातक काफी उत्साह के साथ हर किसी की मदद करते हैं जो यह दर्शाता है कि शायद वे कुछ पाने के लिए मदद कर रहे हैं और इसी के कारण यह बात उनके स्वभाव पर बुरा असर डालती है।


8. वृश्चिक राशि

वृश्चिक राशि

 

वे चालाक हैं, झगड़ालू हैं, उन्हें गुस्सा बहुत आता है और अपनी बात मनवाने के लिए वे किसी भी हद तक जा सकते हैं। 23 अक्टूबर से 21 नवंबर के भीतर जन्म लेने वाले लोग, यानी कि वृश्चिक राशि के जातकों में बारें में यह ढेरों बुराईयां बताता है ज्योतिष शास्त्र। क्या आप भी यही मानते हैं?


9. धनु राशि

धनु राशि

धनु राशि के जातक किसी के लिए बुरा सोचने से पहले भी दस बार सोचेंगे लेकिन उनमें भी बुराइयां जरूर हैं और यह बुराइयां उनकी कुछ आदतों में छिपी हैं। 22 नवंबर से 21 दिसंबर के भीतर जन्म लेने वाले लोग इस राशि के होते हैं और इनकी सबसे पहली बुरी बात यह है कि ये खुद को बहुत स्मार्ट समझते हैं लेकिन असल में है नहीं। इनकी दूसरी बुराई जो सबसे अधिक देखी जाती है वह यह कि ये कही-सुनी बातों पर जल्दी यकीन कर लेते हैं और उन्हीं को हर किसी पर लागू करने की कोशिश करते हैं। यदि यह बुराइयां धनि राशि के जातकों में ना हो तो वे सभी राशि चिन्ह में परफ्केट राशि हों।


10. मकर राशि

मकर राशि

 

22 दिसंबर से 19 जनवरी के बीच जन्म लेने वाले लोग मकर राशि के जातक कहलाते हैं, जिनकी बुराई है इनका लगातार सोचते रहना जो इनके आसपास के लोगों को परेशान करता है।


11. कुंभ राशि

कुंभ राशि

 

20 जनवरी से 18 फरवरी के भीतर जन्म लेने वाले लोग कुंभ राशि के जातक कहलाते हैं। कुंभ राशि के जातकों के भीतर एक गलतफहमी है जिस के ऊपर से पर्दा उठना बेहद जरूरी है। दरअसल ये सोचते हैं कि ये भीड़ से काफी अलग हैं, आकर्षक हैं और इनके जैसा कोई नहीं, परंतु असलियत तो कुछ और ही है। इसलिए ये अपने आसपास के लोगों के साथ घुलमिल नहीं पाते और लोगों की निंदा का पात्र बनते जाते हैं।


12. मीन राशि

मीन राशि

19 फरवरी से 20 मार्च के भीतर जन्म लेने वाले लोग मीन राशि के जातक हैं, जिनकी खासियत है अपने खुद की जिंदगी में मस्त अंदाज़ से घूमते रहना। लेकिन इनकी यही खासियत इनके लिए दुश्मन भी बन जाती है, क्योंकि हरदम अपने बारे में ही सोचते रहने का इनका यह अंदाज़ लोगों को पसंद नहीं आता। लोग इन्हें स्वार्थी समझने लगते हैं, इनपर भरोसा नहीं करते और इनसे दूर-दूर रहना ही पसंद करते हैं। लेकिन यह केवल कुछ ही समय के लिए होता है।

 


 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Download e-Book
error: Content is protected !!