अगर पाना चाहतें है अपने शत्रुओं पर विजय तो करें ये उपाय

अगर पाना चाहतें है अपने शत्रुओं पर विजय तो करें ये उपाय

हर व्यक्ति की जिंदगी में कोई ना कोई शत्रु जरूर होता है। कोई शत्रु प्रत्यक्ष रूप से परेशान करता है तो कोई अप्रत्यक्ष रूप से। हर व्यक्ति चाहता है कि उसे उसके शत्रु से छुटकारा मिले और शत्रु द्वारा उत्पन्न की गई परेशानी को नाकाम करें। इसके लिए वह बहुत मेहनत करता है लेकिन किन्हीं कारणों से सफल नहीं हो पाता तो ऐसे में आपको कुछ ज्योतिषीय उपाय करने की जरूरत होती हैं। तो आइये हम बताते हैं आपको शत्रु शमन के लिए किये जाने वाले उपायों के बारे में ताकि आपके सभी कार्य बिना रूकावट पूर्ण हो। तो आइये जानते हैं उन उपायों के बारे में।

* यदि आपको कोई शत्रु अनावश्यक परेशान कर रहा हो तो एक भोजपत्र का टुकड़ा लेकर उस पर लाल चंदन से उस शत्रु का नाम लिखकर उसे शहद की डिब्बी में डुबोकर रख दें। आपका शत्रु आपका अहित नहीं कर पायेगा।

* अकारण ही आपको कोई परेशान कर रहा है तो अपने शत्रु को परेशान करने के टोटके में यह टोटका भी बहुत कारगर सिद्ध हुआ है। टोटका है -एक मोर पंख लें। अब शनिवार या मंगलवार की रात्रि को अपने दुश्मन के नाम को लिखे बजरंगबली के शीश पर चढ़े हुए सिंदूर से। अब इसे अपने पूजा स्थान पर रखे सारी रात। दूसरे दिन सुबह जल्दी उठकर बहते हुए पानी में उस मोर पंख को प्रवाहित कर दे नहाने के पहले। कैसा भी शत्रु क्यों न हो शांत हो जाएगा।

* अमावस्या या रविवार की रात को ये दुश्मन को तबाह करने के टोटके करें। इस दिन दक्षिण दिशा की तरफ़ मुह करके बैठ जाएँ। अब एक काले वस्त्र पर माँ काली के चित्र को स्थापित कर पूजा करें। पूजा करने के बाद एक नीम्बू पर सिंदूर से अपने शत्रु का नाम लिख दें। बाकी बचे सिंदूर को सरसों के तेल में डाल कर संकल्प लें। ऐसा करने के बाद एक रुद्राक्ष की माला दें और यहाँ दिए गए मंत्र का 11 बार जाप करें।

* अगर कोई व्यक्ति आपको हर समय परेशान करता है, आप उसके कारण चिंता में हैं, तो निश्चिंत हो जाएँ ।शत्रु पर विजय पाने का बहुत ही सरल और कारगर उपाय आपको बताते हैं। जब आप शौच के लिए जाएँ तो वहीं बैठे हुए यह उपाय आप कर सकते हैं। पानी से उस व्यक्ति का नाम लिखें जिसने आपका जीना मुश्किल कर दिया है। अब अपने बाएँ पैर से उस जगह पर तीन बार ठोकर मारें जहां आपने उस व्यक्ति का नाम लिखा है। शत्रु निवारण का उपाय करने के लिए मन में किसी प्रकार की दुर्भावना नहीं होनी चाहिए।

* 40 दाने अक्षत और काली उड़द के साबुत 38 दाने लें और उन्हें एक गड्डा बनाकर उसमें डाल दें। इतना करने के बाद आप एक निम्बू लें और उसे गड्ढे के ऊपर निचोड़ दें। जब आप निम्बू निचोड़ रहें हो तो उस वक़्त आप उस व्यक्ति का नाम लेते रहें, जो आपकी जान का दुश्मन बना हुआ है। ये उपाय करने से वो आपके पीठ पीछे से आपके खिलाफ कोई साजिश नहीं रच पायेगा।

* अगर शत्रु पीछे पड़ा हो, किसी को बिना किसी कारण से परेशान कर रहा हो तो हनुमान जी की शरण में जाएँ। नित्य हनुमान जी को गुड़ या बूंदी का भोग लगाएं, हनुमान जी को लाल गुलाब चढ़ाकर हनुमान चालीसा, बजरंग बाण का पाठ करें और प्रतिदिन कच्ची धानी के तेल के दीपक में लौंग डालकर हनुमान जी की आरती करें, और अपने उनसे शत्रु को नष्ट करने / परास्त करने की प्रार्थना करें। अपनी कमीज़ की सामने वाली जेब में लाल रंग की छोटी हनुमान चालीसा रखें ,इससे संकटमोचन की कृपा से सभी तरह के अनिष्ट दूर होते है, मनोबल बढ़ता है, जातक निर्भय हो जाता है, नए और शक्तिशाली मित्र बनते है। शत्रु कुछ भी नहीं बिगाड़ पाता है और शांत हो जाता है।

dailyhunt

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Download e-Book
error: Content is protected !!